पित्त की पथरी, प्रकार, लक्षण, कारण, उपचार और खर्च

0
200

पित्त की पथरी, प्रकार, लक्षण, कारण, उपचार और खर्च, पित्त की पथरी एक सामान्य समस्या है जो पाचन तंत्र में पथरी का निर्माण करती है। यह पथरी उन तत्वों से बनी होती है जो मूत्रमार्ग के माध्यम से शरीर से बाहर निकलते हैं। पित्त पथरी की उत्पत्ति के कई कारण हो सकते हैं जैसे पानी की कमी, खाने की गलत आदतें, आधुनिक जीवनशैली, ज्यादा खाने से पेट में गैस बनना, ज्यादा नमक का सेवन आदि।

पित्त की पथरी, प्रकार, लक्षण, कारण, उपचार और खर्च

पित्त की पथरी क्या है?

पित्त की पथरी एक आम समस्या है जो उच्च तापमान और बहुत कम पानी पीने के कारण होती है। इसमें कैल्शियम ऑक्सलेट नामक एक पदार्थ के रूप में शरीर में निर्मित होने लगते हैं। ये पथरियां गुर्दे में या फिर मूत्रमार्ग में फंस सकती हैं। जब पथरी बड़ी हो जाती है तो इससे दर्द, मूत्र ना आना और मूत्रमार्ग से ब्लड आने जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

पित्त की पथरी के मुख्य कारण निम्नलिखित हो सकते हैं:

  • पानी की कमी
  • ज्यादा प्रोटीन युक्त आहार का सेवन
  • बैक्टीरियल संक्रमण
  • दिन भर में पानी की अधिक मात्रा में सेवन करें
  • प्रोटीन कम युक्त आहार खाएं
  • संतुलित आहार लें
  • योग और व्यायाम करें
  • नियमित चेकअप करवाएं

पित्त की पथरी कारण क्या है?

पित्त की पथरी के कई कारण हो सकते हैं। इस समस्या का मुख्य कारण शरीर में कैल्शियम ऑक्सलेट नामक एक पदार्थ के रूप में निर्मित होने से होता है। ये पथरियां उच्च तापमान और बहुत कम पानी पीने के कारण शरीर में जमा होती हैं।

इसके अलावा निम्नलिखित कारण भी हो सकते हैं:

  • पानी की कमी: अगर शरीर में पानी की कमी होती है तो पथरी का खतरा बढ़ जाता है।
  • अधिक प्रोटीन युक्त आहार: अधिक मात्रा में प्रोटीन युक्त आहार खाने से भी पथरी बनने का खतरा बढ़ जाता है।
  • बैक्टीरियल संक्रमण: कुछ स्थानों पर बैक्टीरिया पाए जाने से भी पथरी बन सकती है।
  • यह समस्या अधिकतर लोगों में दिखती है जो उम्रदराज होते हैं। परन्तु, युवा लोग भी इस समस्या से पीड़ित हो सकते हैं, अगर वे अपनी खुराक और दैनिक जीवनशैली के बारे में सावधान नहीं रहते।

पित्त की पथरी के लक्षण क्या है?

पित्त की पथरी के लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं। कुछ लोगों को ये लक्षण अधिक स्पष्ट नहीं होते हैं जबकि कुछ लोगों को ये लक्षण बहुत ही तेज़ तर्रार होते हैं। कुछ आम लक्षण निम्नलिखित हैं:

  • पेशाब में दर्द और स्फुरण
  • पेशाब के समय आग जलने जैसा लगना
  • पेशाब में रक्त आना
  • पेशाब के दौरान अधिक दर्द महसूस होना
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द
  • पेट में सूजन
  • उल्टी होना
  • तेज बुखार या शरीर में गर्मी का अनुभव करना
  • पेशाब करते समय अधिक ठंडा पानी आना

पित्त की पथरी का इलाज क्या है?

पित्त की पथरी के इलाज के लिए कुछ सामान्य उपाय हैं। यहां हम कुछ आम उपायों के बारे में बता रहे हैं:

  • पानी की मात्रा बढ़ाएं: पानी की अधिक मात्रा से शरीर के विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद मिलती है। यदि आपके शरीर में पित्त की पथरी है, तो आपको दिनभर में कम से कम 8-10 गिलास पानी पीना चाहिए।
  • दूध और दूध संबंधित उत्पादों का सेवन कम करें: दूध और दूध संबंधित उत्पादों में कैल्शियम की अधिक मात्रा होती है, जो पित्त की पथरी का कारण बन सकती है। इसलिए, अधिक मात्रा में दूध और दूध संबंधित उत्पादों का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • दूसरे तरीकों से पानी का सेवन करें: आप सेब का रस, नारियल पानी, लौकी का रस आदि कई तरह के तरल पदार्थों का सेवन कर सकते हैं जो पानी के साथ लेने में मददगार होते हैं।
  • दवाइयाँ: दवाइयों का सेवन आमतौर पर पथरी को घोलकर उसे पास होने में मदद करता है। आमतौर पर दिए जाने वाले दवाइयों में अल्फा ब्लॉकर्स, कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स, यूरोलोजिस्ट द्वारा दी जाने वाली दवाएं, और स्टेरॉयड दवाएं शामिल होती हैं।
  • संग्रहण विधि: संग्रहण विधि एक उपचार है जिसमें एक स्टेंट डाला जाता है जो पेशाब के रासायनिक तत्वों को आसानी से गुजरने देता है। यह इलाज बहुत ही प्रभावी होता है।
  • लेजर ट्रीटमेंट: लेजर ट्रीटमेंट एक और उपचार है जिसमें एक लेजर द्वारा पथरी को तोड़ा जाता है। यह उपचार अत्यंत संज्ञानशील होता है और इसे केवल सबसे गंभीर मामलों में लागू किया जाना चाहिए।

पित्त की पथरी एक ऐसी समस्या है जो अगर समय पर पहचानी न जाए तो यह बड़ी समस्याओं का कारण बन सकती है। इसलिए इस समस्या को लेने से पहले आपको एक डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

पित्त की थैली का ऑपरेशन करने में कितना समय लगता है?

पित्त की थैली या गुर्दे की पथरी के ऑपरेशन का समय उपचार के प्रकार और स्थिति के आधार पर भिन्न होता है।

यदि आप लेपरोस्कोपिक स्त्रीफ ऑपरेशन करवाते हैं, तो यह ऑपरेशन 30 मिनट से अधिक समय नहीं लेता है। इसके बाद आप आमतौर पर एक दिन के लिए अस्पताल में रहते हैं और उन्हें दरवाजे के दिन होम डिस्चार्ज कर दिया जाता है।

दूसरी ओर, यदि गुर्दे में बड़ी पथरी हो जाती है और उनका आकार 2 सेमी से अधिक होता है, तो डॉक्टर आपको पुराने ऑपन सुर्जरी या पुरानी स्टोन क्रशिंग तकनीकों में से किसी एक का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आमतौर पर एक से दो दिनों का अस्पताल में रुकावट होती है और एक सप्ताह तक रामबाण दवाएं ली जाती है।

ऑपरेशन के बाद, आपको अपने खान-पान का ध्यान रखना चाहिए और अपने डॉक्टर की सलाह का पालन करना चाहिए। अस्पताल से घर जाने के बाद, आपको एक सप्ताह तक विश्राम करना चाहिए

पित्त की पथरी ऑपरेशन का खर्च क्या है?

पित्त की पथरी के ऑपरेशन के खर्च का विवरण कई तत्वों पर निर्भर करता है। यह निम्नलिखित हो सकते हैं:

ऑपरेशन का प्रकार: पित्त की पथरी के ऑपरेशन का प्रकार निर्धारित करना खर्च को प्रभावित करता है। छोटी पथरी के ऑपरेशन का खर्च बड़ी पथरी के ऑपरेशन से कम होता है।

अस्पताल चयन: अस्पताल चयन भी खर्च के अंतर को निर्धारित करता है। बड़े शहरों में चिकित्सा सुविधाएं अधिक होती हैं जिसके चलते वहां उपलब्ध ऑपरेशन के खर्च अधिक होते हैं।

डॉक्टर का चयन: अगर आपने एक अच्छे डॉक्टर को चुना है तो उनके द्वारा आपको बताए गए उपचार के अनुसार ऑपरेशन के लिए उचित खर्च बनाया जा सकता है।

सुविधाएं: ऑपरेशन के दौरान उपलब्ध सुविधाएं भी खर्च के अंतर को निर्धारित करती हैं। जैसे कि आप एक एसी वाले कमरे का चयन करते हैं तो आपको ज्यादा खर्च उठाने पड़ सकते हैं।

ऑपरेशन के लिए खर्च आमतौर पर 30,000 से 1,50,000 रुपये के बीच हो सकती है

Leave a reply